Good news for EPS 95 Pensioners:

0 0
Read Time:4 Minute, 26 Second

देश में आगामी समय में सरकारी कर्मचारियों की तरह निजी प्रतिष्ठानों व संस्थानों के कर्मचारियों को भी सेवानिवृत्ति के दिन से ही पेंशन मिलेगी। इसके लिए कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (ईपीएफओ) ने शुक्रवार को लुधियाना में पायलट प्रोजेक्ट ‘विश्वास’ की शुरुआत की है।

प्रोजेक्ट के तहत लुधियाना स्थित क्षेत्रीय कार्यालय में एक विशेष टीम बनाई गई है। यह टीम सेवानिवृत्त होने वाले कर्मचारियों के दस्तावेज दो माह पहले ही पूरे करवाएगी। सेवानिवृत्ति पर उन्हें पेंशन सर्टिफिकेट दिया जाएगा। इस क्रम में शुक्रवार को अप्रैल में सेवानिवृत्त होने वाले 54 प्रतिष्ठानों के 91 कर्मचारियों को पेंशन सर्टिफिकेट दिए गए। इनमें से सात ने आस्थगित पेंशन विकल्प को चुना है, जबकि 84 ने पेंशन को। यह प्रयास सफल होने पर इसे पंजाब के अन्य क्षेत्रीय कार्यालयों और दूसरे राज्यों में भी शुरू किया जाएगा।


प्रतिष्ठानों को सेवानिवृत्ति के माह के योगदान का करना होगा अग्रिम भुगतान

प्रतिष्ठानों को सेवानिवृत्ति के माह की भविष्य निधि (पीएफ) का अग्रिम भुगतान करना होगा। पीएफ कार्यालय में जरूरी दस्तावेजों के साथ पेंशन दावों को दर्ज करना होगा। माह में कितने कर्मचारी सेवानिवृत्त हो रहे हैं, उसकी 15 तारीख से पहले उन्हें ईसीआर (इलेक्ट्रानिक चालान कम रिटर्न) दाखिल करना होगा। इस दौरान ईपीएफओ के एडिशनल सेंट्रल कमिश्नर (एसीसी) कुमार रोहित, चंडीगढ़ क्षेत्र के कमिश्नर पीपीएस मैंगी भी शामिल हुए।


एसीसी कुमार रोहित ने बताया कि आजादी के अमृत महोत्सव पर ‘प्रयास’ से ‘विश्वास’ के दृष्टिकोण में एक क्रांतिकारी बदलाव है। ईपीएफओ सेवाओं के लिए हमारे ईपीएफ सदस्यों के बीच ‘विश्वास’ विकसित करने का एक प्रयास है।

पहली बार ईपीएफओ में ऐसा किया जा रहा है, इसलिए इस योजना के क्रियान्वयन में सामने आने वाली व्यवहारिक समस्याओं को समझने के लिए लुधियाना में यह पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया गया है। इसके बाद पंजाब, हिमाचल और चंडीगढ़ में संगठन के दूसरे सभी कार्यालयों में इसे 15 अगस्त, 2022 में शुरू किया जाएगा।


रीजनल कमिश्नर धीरज गुप्ता ने बताया कि सेंट्रल पीएफ कमिश्नर नीलम शम्मी राव ने सभी ईपीएफओ कार्यालयों को सेवाओं को विश्वस्तरीय बनाने के तरीके व साधन खोजने के लिए कहा है। लुधियाना क्षेत्रीय कार्यालय में ‘विश्वास’ प्रोजेक्ट की लांचिंग में सतीश ¨सह, राजेश भार्गव, शिवेंद्र डीपीए व मुनीश का अहम योगदान रहा।

<!–1. The (video player) will replace this

tag.–>

// 2. This code loads the IFrame Player API code asynchronously. var tag = document.createElement(‘script’); tag.src = “https://www.youtube.com/iframe_api”; var firstScriptTag = document.getElementsByTagName(‘script’)[0]; firstScriptTag.parentNode.insertBefore(tag, firstScriptTag); // 3. This function creates an (and YouTube player) // after the API code downloads. var player; function onYouTubeIframeAPIReady() { player = new YT.Player(‘player’, { width: ‘100%’, videoId: ‘CuNXA5GG0v4’, playerVars: { ‘autoplay’: 1, ‘playsinline’: 1 }, events: { ‘onReady’: onPlayerReady } }); } // 4. The API will call this function when the video player is ready. function onPlayerReady(event) { event.target.mute(); event.target.playVideo(); } /* Make the youtube video responsive */ .iframe-container{ position: relative; width: 100%; padding-bottom: 56.25%; height: 0; } .iframe-container iframe{ position: absolute; top:0; left: 0; width: 100%; height: 100%; }


Source link
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *