करोड़ों के PF Scam मामले में सीबीआई अपनी जांच का दायरा बढ़ा, जांच पर PMO की नजर

0 0
Read Time:3 Minute, 1 Second

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) के मुंबई ऑफिस में बंद हो चुकी एविएशन कंपनी के अकाउंट से EPFO कर्मचारियों द्वारा 100 करोड़ रुपए से भी ज्यादा का घोटाला किया गया है। यह मामला विजिलेंस जांच में सामने आया है। माना जा रहा है कि जांच आगे बढ़ने पर घोटाले की राशी इससे ज्यादा भी हो सकती है। ईपीएफओ कर्मचारियों की मिलीभगत से बंद हो चुकी एक एविएशन कंपनी के 397 कर्मचारी और विदेशी पायलट की पेंशन और अंशदान की राशि को अकाउंट से साफ कर दिया गया है। इससे सरकार को भी बड़े पैमाने पर इनकम टैक्स का नुकसान हुआ है।

कर्मचारी भविष्य निधि में आमलोगों का पैसा जमा होता है। ऐसे में यहां पर किसी तरह का घपला बड़ा सवालिया निशान है। मिनिस्ट्री ऑफ लेबर एंड एंप्लॉयमेंट की देखरेख में इसका कामकाज चलता है। यहां पर हो रहे इस तरह के घोटालों पर प्रधानमंत्री कार्यालय ने भी संज्ञान लिया है। CBI इस मामले की गंभीरता से जांच करेगी।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, EPFO फ्रॉड मामले में CBI बड़े एक्शन की तैयारी में है। यह किसी भी कंपनी के काम करने वाले कर्मचारियों के साथ बहुत बड़ा फ्रॉड है। बंद हो चुकी एयरलाइन के साथ 397 से ज्यादा इंटरनेशनल वर्कर्स काम करते थे। विजिलेंस जांच में अभी तक 100 करोड़ के घोटाले की पुष्टि हुई है। जांच आगे बढ़ने पर इसका दायरा और बढ़ सकता है।

यह गंदा खेल कोरोना काल में खेला गया है। कोरोना काल में सरकार ने लोगों की जरूरत को ध्यान में रखते हुए EPFO को जल्द से जल्द भुगतान करने का निर्देश जारी किया था। इसका फायदा भी मिला और महज 24-48 घंटे के भीतर दावों का निपटान किया जाने लगा था। इस दौरान फर्जी डॉक्युमेंट के जरिए इन खातों से पूरा पैसा निकाला गया है।

इन पैसों की गलत निकासी के कारण सरकार को भी बड़े पैमाने पर टैक्स का नुकसान हुआ है। सूत्र के मुताबिक, एयरलाइंस कंपनी और EPFO कर्मचारियों की मिलीभगत से इस स्कैम को अंजाम दिया गया है। जानकारी के मुताबिक, पकड़े गए फ्रॉड में अभी तक कोई रिकवरी भी नहीं हुई है।

News Source: Click Here



Source link
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleepy
Sleepy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Average Rating

5 Star
0%
4 Star
0%
3 Star
0%
2 Star
0%
1 Star
0%

Leave a Reply

Your email address will not be published.